Tuesday, September 2, 2008

आग का दरिया....

Image and video hosting by TinyPic




हसीं लम्हों का सूनापन
उल्जा उल्जा सा मेरा मन
कभी भूल नही पाउगी मैं तुम्हे
पानी का वो मौज तक आना
हर साँस को गीला कर जाना
कही पर छोड़ आई हु मैं
यादों के सफर पीछे रह गए और.......!!!!!
कल साथ ले आई हु मैं
बयां करू मै कोन सा ख्याल
बेचैन दिल से किया सवाल
मेरे पास तो रह गया है सिर्फ़
शब्दों का जरियां ..
एक पल मै जी आई हु मैं
तेजाब की बूंदे बारिश मै कल
जलाये आखों मैं वो हसीं पल
न रोक सही कल मैं उसे
रत भर सुलगती रही ऐसे ही उस मैं
जाने फिर कब ऐसे बरसात हो
याद रहेगा उमर भर वो
वो बारिश ...
वो बूंदे ...
वो पानी.....
और वो....आग का दरिया....






palak

2 comments:

Anonymous said...

याद रहेगा उमर भर...
...तेरा प्यार

Pearl...

Ravi Srivastava said...

ये दुआ है अतिशे इश्क़ मे

के तू मेरी तरह से जला करे

ना नसीब मे शरबत-ए-वस्ल हो

सदा ज़हर-ए-गम तू पीया करे

तेरे सामने तेरा घर जले

तेरा बस चले, तू बचा ना सके

ना खुदा दिखाये तुझे खुशी

आये खैर से वो भी दिन

तुझे चैन ना आये मेरे बिन

ना लगाऊ मै तुझे गले

मिनते तू मेरी किया करे