Sunday, November 29, 2015

एक अधूरी कहानी......





            उसकी गर्म हथेलियों की मज़बूत पकड़ में मेरी उंगलियां बर्फ सी
 ठंडी पड़ चुकी थी , जैसे जैसे रास्ता ख़त्म हो रहा था उसके हाथों की गर्मी 
ठंडे पसीने से भीगनें लगी , हाथों की मज़बूत पकड़ और मज़बूत हो गई
मै उसकी आंखो में गहरा ठहरा पानी साफ देख पा रही  थी , बहोत कुछ 
कहना था उसे जो मेरी आंखें उसकी आंखों में पढ़ रहीं था मंजिल आ चुकी 
थी दो जोड़ी पैर , उस अनचाही मंजिल पर आकर थम गये 
दोनों के रास्ते एक दूसरे को काटते हुये आगे बढ़ गये... उसके ठंडे पसीने 
से तर गर्म हाथों की मज़बूत पकड़ से मैंने अपनी ठंडी पड़ चुकी हथेलियां 
अलग कर लीं दिल में बसे एहसासों पर बर्फ जम चुकी थी मेरी नाकामी 
और उसकी बेबसी की और आंखों में ठहरा पानी हम दोनों की आंखो से 
झरने सा फूट पड़ा ...

और सब कुछ एक अधूरी कहानी में बदल गया......

Tuesday, July 14, 2015




काश तुम भी तुम्हारी यादों की तरह बन जाओ


ना वक्त देखो ना बहाना, बस चले आओ...



इश्क वो नही जो तुझे मेरा कर दे 

इश्क वो है जो तुझे किसी और का होने ना दे......


कुछ खास नहीं दास्ताने मोहब्बत मेरी.......


हर रात का आखरी खयाल तेरा..


 और..

 हर सुबह की पहली सोच तेरी...

...पल ...



विरह इश्क की परछाई होती हैं 

और परछाई के मुक्कदर में कभी जिस्म नहीं होते

दावा इश्क का और भूख जिस्म की

अगर ये मोहब्बत है...

तो हवस क्या है?


...पल ...



हम कितना करीब आ गए थे उनके,
ये जाना उनसे दूर जाने के बाद,
हमारी साँसों में घुल गयी थी साँसें उनकी,
ये जाना अपनी साँसों के थम थम के आने के बाद.....

...पल ...



ये हिचकीयोँ को मत भेजो अपना जासूस बना के....

हमे और भी काम है तुम्हें याद करने के सिवा.....