Friday, July 16, 2010

काजल ....


मै आइने के सामने खड़ी सोचती हु

मेरा तोह उस से

कोई ताल्लुक ना था

फिर उस के जाने के बाद

मेरी आखो का काजल क्यों फ़ैल रहा है

4 comments:

संजय भास्कर said...

bahut khoobsurt
mahnat safal hui
yu hi likhate raho tumhe padhana acha lagata hai.

or haan deri ke liye sorry.

संजय भास्कर said...

Maaf kijiyga kai dino bahar hone ke kaaran blog par nahi aa skaa

Anonymous said...

भीग गया काजल होगा आँगन बीच अकेला है बूढ़ा सा पीपल होगा दर्द भरे हैं अफ़साने दिल कितना घायल होगा

~Pearl...

Anonymous said...

shayad tumhare aanshuon ne kisi aur ke aankhon ko bhi nam kiya hoga...shayad...

very touching...itna ki koi bhi ro de..phir hum to..
Snkr..